“मेरे जिले झुंझुनू के लिए है फ़क्र (गौरव) कि बात”

“मेरे जिले झुंझुनू के लिए है फ़क्र (गौरव) कि बात” 

सबसे पहले दलगत राजनीति से ऊपर उठकर मैं मेरे जिले के लाल माननीय जगदीप धनखड़ जी को देश के उपराष्ट्रपति बनने की बधाई देता हूँ।

इस अवसर पर करीब 33 साल पुरानी एक यादगार कहानी आपके साथ सभी साझा करना चाहता हूँ – 

1989 मे झुंझुनू लोकसभा से कांग्रेस के उम्मीदवार कैप्टन अयूब खान साहब थे जो उस वक़्त वर्तमान सांसद भी थे। मेरे वालिद (मरहूम डॉ. सलाउद्दीन चोपदार जी) अयूब साहब के चुनाव इंचार्ज थे। जनता दल के लोकसभा उम्मीदवार जगदीप जी धनखड़ थे। उस वक़्त बोफोर्स को लेकर विपक्ष ने भारी मुद्दा बना रखा था। पूर्व प्रधानमंत्री वीपी सिंह जी और किसान नेता ताऊ देवीलाल जी के नेतृत्व मे जनता दल कि लहर चली और देश मे कांग्रेस के सभी दिग्गज नेता चुनाव हार गए थे। अयूब साहब भी चुनाव हार गए। मुझे याद है कि रिजल्ट आने के बाद जगदीप धनकड़ जी, कैप्टन अयूब साहब और मेरे वालिद एक साथ एक गाड़ी मे बैठकर काउंटिंग स्थल से घर आये थे। ये शालीनता थी राजनीति में उस वक्त। 

खैर, धनकड़ साहब वीपी सिंह जी कि सरकार मे केंद्रीय मंत्री बने। कुछ समय बाद वे कांग्रेस मे आ गए, किशनगढ़ (अजमेर) से विधायक बने। झुंझुनू लोकसभा से वे कांग्रेस के उम्मीदवार भी रहे। आप सुप्रीम कोर्ट क़े सीनियर एडवोकेट है अपने गांव किठाना से जुड़ाव रहता है आपके छोटे भाई रणदीप जी धनकड़ कांग्रेस क़े कद्दावर नेता है। धनकड़ साहब जब वेस्ट बंगाल क़े राज्यपाल बने तो जिले के लोगो ने अपने जिले के बने राज्यपालो कि गिनती की। कमला जी बेनीवाल गुजरात कि राज्यपाल, नवरंग लाल जी टिबड़ेवाल राजस्थान के राज्यपाल बने। 

आज जिले के सभी लोगो मे फिर से खुशी और हर्ष कि लहर है। एक बार फिर, दिल कि गहराइयों से धनकड़ जी को हार्दिक बधाई।

Jagdeep dhankar 

Md. Chopdar

मेरा नाम जांगिड़ हैं। में एक रिपोटर हू मुझे लोगो तक सबसे पहले खबर पहुंचना अच्छा लगता हैं।

Leave a Comment